Home बिजनेस New Home Sales in 2023 | नए घरों की बिक्री में 2023 में 33% का उछाल – The Rajdhani Times

New Home Sales in 2023 | नए घरों की बिक्री में 2023 में 33% का उछाल – The Rajdhani Times

0
New Home Sales in 2023 | नए घरों की बिक्री में 2023 में 33% का उछाल – The Rajdhani Times

Loading

मुंबई: भारत में आवासीय रियल एस्टेट की बिक्री वर्ष 2013 में देखी गई ऊँचाई के बाद कैलेंडर वर्ष 2023 में उच्चतम स्तर पर थी। देश की प्रमुख ऑनलाइन रियल एस्टेट ब्रोकर कंपनी, प्रॉपटाइगर डॉटकॉम की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, बीते कैलेंडर वर्ष में 33% सालाना वृद्धि के साथ कुल 4.10 लाख घरों की बिक्री हुई।

आरईए इंडिया का अंग, प्रॉपटाइगर डॉटकॉम द्वारा जारी ‘रियल इनसाइट रेजिडेंशियल – एनुअल राउंड-अप 2023 (जनवरी-दिसम्बर) नामक रिपोर्ट के अनुसार कैलेंडर वर्ष 2023 में माँग और नई आपूर्ति, दोनों मोर्चे पर भारत ने दहाई अंक की वृद्धि दर्ज की। वहीं, नई आपूर्ति अभी तक के उच्चतम स्तर पर है तथा बिक्री में तेजी आ रही है। उल्लेखनीय है कि आरईए इंडिया अग्रणी प्रॉपटेक प्लैटफॉर्म Housing.com का भी मालिक है।

यह भी पढ़ें

वर्ष 2022 में लॉन्च की गई 4,31,510 इकाइयों (घरों) के मुकाबले 2023 में 20 प्रतिशत सालाना वृद्धि के साथ कुल 5,17,071 यूनिट्स लॉन्च की गईं। वर्ष 2023 में नई आपूर्ति के मामले में मुंबई, पुणे और हैदराबाद का स्थान सबसे ऊपर रहा और संपूर्ण नई लॉन्चिंग में इनकी संयुक्त हिस्सेदारी 70 प्रतिशत थी।

आँकड़ों में कैलेंडर वर्ष के दौरान सबसे बड़े आठ शहरों – अहमदाबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, हैदराबाद, कोलकाता, दिल्ली-एनसीआर (गुरुग्राम, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद), एमएमआर (मुंबई, नवी मुंबई और ठाणे) तथा पुणे में सभी चार तिमाहियों के लिए बिक्री की संख्यायें शामिल हैं।

हाऊसिंग डॉटकॉम प्रॉपटाइगर डॉटकॉम और मकान डॉटकॉम के ग्रुप सीएफओ, विकास वधावन ने कहा कि, “शुरूआती चुनौतियों, जैसे कि बढ़ती ब्याज दरें, बढ़ती लागत, और वैश्विक अनिश्चितताओं के बीच रियल एस्टेट की कीमतों में उछाल के बावजूद उद्योग ने असाधारण लचीलापन दिखाया है। विश्वव्यापी महामारी के बाद ग्राहकों के मन में दबी हुई माँग एक मुख्य वाहक के रूप में संपत्ति बाज़ार को अप्रत्याशित स्तर पर प्रेरित कर रही है। खरीदारों का विश्वास मजबूत करने में अप्रैल 2023 में भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा दर में वृद्धि को रोकने के फैसले की महत्वपूर्ण रही।”

वधावन ने आगे कहा कि, “उपभोक्ताओं के उत्साह के कारण मिड-प्रीमियम और प्रीमियम हाउसिंग के लिए माँग में तेजी आ रही है। हाल में दिल्ली और बेंगलुरु में प्रीमियम श्रेणी की लॉन्चिंग इस क्षेत्र के लचीलेपन के उदाहरण हैं। लेकिन, सस्ते घरों के क्षेत्र में कीमतों में उछाल के कारण मुश्किलें आ सकतीं हैं। इस संभावना को देखते हुए, नए साल में सफलता मौजूदा गति का लाभ उठाने और बाजार की बारीकियों के प्रति अनुकूलन पर निर्भर करती है।”

2023 में मुंबई, पुणे और हैदराबाद में अधिकतम आकर्षण देखा गया
2023 के लिए आँकड़ों और गहरी परख से पता चलता है कि साल के सभी चार तिमाहियों में क्रमिक और वार्षिक, दोनों रूप से माँग बढ़ी है। पश्चिमी और दक्षिणी बाज़ारों में मुंबई, पुणे और हैदराबाद ने लगातार आकर्षण दर्शाया और वर्ष 2023 में समग्र बिक्री में इनकी संयुक्त हिस्सेदारी 67 प्रतिशत रही। वर्ष 2023 में अहमदाबाद और हैदराबाद में सालाना बिक्री में क्रमशः 51 प्रतिशत और 48 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई, जो दूसरे शीर्षस्थ शहरों की तुलना में उच्चतम वृद्धि थी।

2023 में आवासीय माँग में तेजी बरकरार रही और 2013 में देखे गए उछाल के बाद से यह अपने उच्चतम स्तर पर थी। संपूर्ण माँग में उच्चतर मूल्य वर्ग, यानी 1 करोड़ से लेकर 3 करोड़ रुपये तक की यूनिट्स की हिस्सेदारी सबसे अधिक, यानी 24 प्रतिशत थी। इस मूल्य बर्ग की हिस्सेदारी महामारी-पूर्व वर्ष 2019 के 15-17 प्रतिशत तिमाही स्तर से काफी ज्यादा बढ़ गई है। हालाँकि संपत्ति की कीमतों और ब्याज दरों में वृद्धि एक हद तक घर खरीदने वालों के सकारात्मक मनोभाव पर धीरे-धीरे भारी पड़ने लगी है और आशा है कि इसका प्रभाव कम समय के लिए होगा, फिर भी उपभोक्ताओं का सामान्य दृष्टिकोण लगातार सकारात्मक बना हुआ है।

नई लॉन्चिंग की लहर को खरीदारों के उत्साह से मिल रही ताकत
खरीदारों का उत्साह भी लॉन्चिंग की नई लहर पैदा कर रहा है। इस साल संपत्ति की लॉन्चिंग में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है जो मबजूत होती अर्थव्यवस्था में माँग की मजबूती और उपभोक्ताओं के विश्वास में बढ़ोतरी का संकेत है। अधिकाँश नए घर 1-3 करोड़ रुपये के बीच के थे। टॉप आठ शहरों में नई कुल नई आपूर्ति में ऐसे घरों का अनुपात 31 प्रतिशत था।

2023 में पिछले वर्ष के मुकाबले 20% वार्षिक वृद्धि के साथ कुल 5.17,071 यूनिट्स लॉन्च की गई। नई लॉन्चिंग की संख्या लगातार एक लाख से ऊपर बनी रही है और इस प्रकार बीता साल अभे तक का सबसे बढ़िया साल साबित हुआ है।

प्रॉपटाइगर डॉटकॉम, हाऊसिंग डॉटकॉम  और मकान डॉटकॉम  की हेड ऑफ़ रिसर्च, अंकिता सूद ने कहा कि, “भारत का आवासीय रियल्टी बाज़ार अभी अपने शानदार दौर में है, जहाँ माँग और आपूर्ति दोनों में वर्ष 2010 के प्रभावपूर्ण दिनों की झलक मिलती है। मजबूत आर्थिक पृष्ठभूमि, खर्च योग्य बढ़ती आमदनी के साथ-साथ संपत्ति में निवेश की बढ़ती इच्छा के कारण सालाना बिक्री में 33% और नई आपूर्ति में 20% की वृद्धि हुई। राष्ट्रीय स्तर के डेवलपर्स ने इस गति ला लाभ उठाया है और सही उत्पादों की पेशकश की है। साथ ही वर्ष 2024 के लिए इन डेवलपर्स द्वारा परियोजनाओं की लम्बी कतार तैयार की जा रही है। हमने सेवा क्षेत्र की प्रधानता वाले शहरों में माँग को ऊँचा होते देखा जिसके चलते संपत्ति की कीमतों में राष्ट्रीय औसत से दोगुना यानी 15-20 प्रतिशत सालाना उछाल देखने को मिला।”

सूद ने 2024 के लिए अपना दृष्टिकोण जाहिर करते हुए आगे कहा कि, “2024 में भौगोलिक जोखिम रहेगा, लेकिन इसके बावजूद उपभोक्ता का उत्साही रुख मेट्रो शहरों में और टियर-2 शहरों में भी संपत्ति बाज़ार में उछाल जारी रहने का संकेत है।”

– The Rajdhani Times

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here