Home बिजनेस Gold and silver new heights | सोने चांदी में आएगा जबरदस्त उछाल, 70 हजार पर होगा सोना, 90 हजार तक चांदी! – The Rajdhani Times

Gold and silver new heights | सोने चांदी में आएगा जबरदस्त उछाल, 70 हजार पर होगा सोना, 90 हजार तक चांदी! – The Rajdhani Times

3
Gold and silver new heights | सोने चांदी में आएगा जबरदस्त उछाल, 70 हजार पर होगा सोना, 90 हजार तक चांदी! – The Rajdhani Times

Loading

विष्णु भारद्वाज@नवभारत
मुंबई: अमेरिका में ब्याज दरों में जल्द कटौती की उम्मीद, रूस-यूक्रेन और इजरायल-हमास के बीच जंग, वैश्विक अर्थव्यवस्था में नरमी तथा केंद्रीय बैंकों की भारी खरीद के कारण कीमती धातु सोने (Gold) में फिर तेजी ने जोर पकड़ लिया है। सोने के साथ चांदी (Silver) में भी तेजी आने लगी है। मार्च की शुरुआत से ही दोनों धातुओं में तेजी आ रही है। बीते सप्ताह मुंबई में सोना तो 65,650 रुपए की नई ऊंचाई छू चुका है। मार्च में अब तक सोने के दाम 3400 रुपए प्रति दस ग्राम यानी 5.4% बढ़ चुके हैं। जबकि चांदी में 4900 रुपए यानी 7% की तेजी आई है और दाम 74,210 रुपए प्रति किलो तक पहुंच गए हैं। मुंबई में चांदी का अब तक का सर्वोच्च स्तर 76,360 रुपए प्रति किलो है, जो 4 मई 2023 को हुआ था। यदि 2024 में अब तक की बात करें तो सोने में 2400 रुपए यानी 3.8% की तेजी दर्ज हुई है, लेकिन चांदी में 420 रुपए यानी 0.50% की गिरावट आई है। 2023 में भी सोने की कीमतों में 15% की बड़ी तेजी आई, लेकिन चांदी में 10% की ही तेजी दर्ज हुई। 2022 में भी कुछ ऐसा ही हाल रहा. जहां सोना ने 14% का रिटर्न दिया, वहीं चांदी में सिर्फ 11% का ही लाभ मिला। इस तरह लॉन्ग टर्म में तो चांदी की तुलना में सोने के दाम ही ज्यादा बढ़ रहे हैं। हालांकि अब इंडस्ट्रियल मांग बढ़ने से चांदी में भी तेजी आने लगी है। बुलियन विशेषज्ञों का मानना है कि इस साल सोना 70,000 रुपए प्रति दस ग्राम तो चांदी 90,000 रुपए प्रति किलो के स्तर पहुंच सकती है। 

 

डॉलर कमजोर होने पर मजबूत होता है सोना 

दुनिया में जब-जब अमेरिकी डॉलर कमजोर होता है तो सोना मजबूत होता है। अब अमेरिकी अर्थव्यवस्था में कमजोरी और ब्याज दरों में कटौती होने की उम्मीद में यूएस डॉलर कमजोर हो रहा है। डॉलर इंडेक्स अब 103.45 के स्तर पर आ गया है, जो अक्टूबर 2023 में 107 पर था. इस कारण वैश्विक बाजार में सोना मजबूत होने लगा है। लंदन में सोना 2203 डॉलर की नई ऊंचाई पर छूने के बाद अब 2159 डॉलर प्रति औंस पर है। जबकि चांदी 25.40 डॉलर प्रति औंस पर हो गयी है, जो विगत 4 महीनों का उच्च स्तर है। 

गिरावट में निवेश फायदे का सौदा
PNG ज्वैलर्स के अध्यक्ष, सौरभ गाडगिल ने बताया, गोल्ड में व्यू बुलिश ही लग रहा है। जैसा कि मैंने पहले कहा था कि गोल्ड 70 हजार रुपए तक पहुंच सकता है और इस साल 70 हजार होने की पूरी संभावना है। इसके कई कारण भी हैं। विश्व स्तर पर जियो पॉलिटिकल और इकनॉमिकल सिचुएशन ठीक नहीं है। पहले लग रहा था कि रूस-यूक्रेन वार जल्द खत्म हो जाएगा, लेकिन इसके और भड़कने की आशंका हो गयी है। इजराइल-हमास वार भी जारी है। यूएस में बैंकों की स्थिति अभी भी नाजुक है। ऐसे अनिश्चित माहौल में लोग सेफ इन्वेस्टमेंट करना चाहते हैं और गोल्ड ही सबसे सुरक्षित निवेश माध्यम है। चाइना और रूस के सेंट्रल बैंक तथा वहां के लोग गोल्ड की लगातार खरीद कर रहे हैं। भारत में भी गोल्ड की मांग निरंतर बढ़ रही है। आगे गुड़ी पड़वा, अक्षय तृतीया और शादियों के सीजन में गोल्ड की खूब मांग रहेगी। जहां तक सिल्वर की बात है। सिल्वर में भी आउटलुक बुलिश दिख रहा है। सिल्वर की इंडस्ट्रियल डिमांड खूब बढ़ रही है। इस समय चिप (सेमीकंडक्टर) इंडस्ट्री जोर में है और चिप में सिल्वर का उपयोग बहुत होता है। मुझे लगता है कि चांदी भी इस साल 90 हजार रुपए तक पहुंच सकती है। गोल्ड-सिल्वर, दोनों में ही थोड़े उतार-चढ़ाव के साथ तेजी रहेगी। लिहाजा हर गिरावट में खरीदना फायदेमंद रहेगा। 

 

यह भी पढ़ें

केंद्रीय बैंक कर रहे भारी खरीद
ज्वैलमेकर्स वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष, संजय शाह का कहना है, दुनिया में चीन, रूस, भारत, तुर्की सहित कई देशों के केंद्रीय बैंक सोने की भारी खरीद कर रहे हैं क्योंकि अमेरिकी डॉलर या अन्य करेंसीज पर भरोसा कम हो रहा है। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, जनवरी 2024 में दुनिया के केंद्रीय बैंकों ने 39 टन सोने की खरीद की, जो दिसंबर में हुई 17 टन की तुलना में दोगुनी से अधिक है। भारतीय रिजर्व बैंक ने भी जनवरी में 9 टन सोने की खरीद की, जो जुलाई 2022 के बाद सबसे बड़ी खरीद है। इस तरह सबसे सुरक्षित निवेश के रूप में सोने के प्रति भरोसा बढ़ता जा रहा है।  भारतीयों का तो सोने के प्रति सदियों से लगाव रहा है। लॉन्ग टर्म में सोने ने ही अधिक फायदा दिया है। 13 साल पहले वर्ष 2011 में सोना 29,000 रुपए प्रति दस ग्राम के स्तर पर था, जो अब बढ़ते हुए 65,500 रुपए के पार हो गया है। यानी विगत 13 वर्षों में सोने में दोगुने से अधिक कुल 125% का जोरदार फायदा हुआ है। जबकि चांदी के दाम 13 साल पहले 44,000 रुपए प्रति किलो थे, जो अब 74,000 रुपए हैं. यानी चांदी में 68% का ही रिटर्न प्राप्त हुआ है। इस तरह सोने में निवेश करना अधिक फायदे का सौदा है। इस साल सोना 70,000 रुपए और चांदी 90,000 रुपए तक पहुंचने के प्रबल आसार दिख रहे हैं। 

– The Rajdhani Times

3 COMMENTS

  1. Thank you for the auspicious writeup It in fact was a amusement account it Look advanced to far added agreeable from you However how can we communicate

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here